केबल टीवी ऑपरटरों और ब्रॉडबैंड सेवा प्रदाताओं पर जीएसटी का प्रभाव

केबल टीवी ऑपरटरों और ब्रॉडबैंड सेवा प्रदाताओं पर जीएसटी का प्रभाव

केबल टीवी उद्योग के अंतर्गत एलसीओ द्वारा कर योग्य आपूर्ति निम्नानुसार है:

  1. ग्राहकों को केबल टीवी पैकेज की आपूर्ति
  2. सेट-टॉप (एसटीबी) बॉक्स की आपूर्ति
  3. एसटीबी की मरम्मत संबंधी सेवाएँ
  4. एमएसओ या ब्रॉडबैंड सेवा प्रदाता की ओर से ब्रॉडबैंड पैकेज की आपूर्ति
  5. केबल टीवी याब्रॉडबैंड पैकेज की व्यवस्था के लिए बनाई गई अन्य संबंधित आपूर्तियाँ; एलसीओ द्वारा संबंधित कुछ कर योग्य खरीद,जो जीएसटी के अधीन हैं, निम्न प्रकार हैं:-

क. एमएसओ द्वारा वसूल की जाने वाली मासिक सदस्यता

ख. एमएसओ को भुगतान किया जाने वाला एसटीबी सक्रियकरण शुल्क

ग. एमएसओ या विक्रेता को एसटीबी के मरम्मत के लिए शुल्क का भुगतान

घ. केबल टीवी नेटवर्क से संबंधित वस्तुओं की खरीद; कार्यालय का रेंटल

केबल टीवी पैकेज या केबल टीवी सेवाओं की आपूर्ति 18 प्रतिशत के दर से कर योग्य है।

​जब किसी पंजीकृत या गैर-पंजीकृत व्यक्ति को आपूर्ति की जाती है, तो सेवाओं के प्राप्तकर्ता अर्थात ग्राहक के स्थान के आधार पर 18 प्रतिशत के जीएसटी का भुगतान किया जाएगा। जीएसटी के तहत ग्राहक के पंजीकृत पते पर कर योग्य चालान जारी किया जाएगा।

एक एलसीओ के रूप में, आपको आपूर्ति की प्रकृति की पहचान करनी है यानी कि क्या केबल टीवी सेवाएँ पंजीकृत व्यक्ति या अपंजीकृत व्यक्ति को प्रदान की जा रही हैं।

उदाहरण 1 एलसीओ किसी गैर-पंजीकृत ग्राहक के लिए केबल टीवी की सेवा उपलब्ध कराता है। चूंकि एक गैर-पंजीकृत व्यक्ति को आपूर्ति की जाती है, इसलिए एलसीओ ग्राहक के लिए कर योग्य इनवॉएस जारी करेगा।

उसी उदाहरण में यदि वह व्यक्ति एक पंजीकृत व्यक्ति है, तो एलसीओ ग्राहक के लिए कर योग्य इनवॉएस जारी करेगी। इस कर योग्य इनवॉएस के आधार पर, वह व्यक्ति जीएसटी के क्रेडिट का दावा करेगा।

सक्रियण पर एसटीबी की आपूर्ति

आम तौर पर ग्राहकों को एसटीबी सक्रियण आधार पर उपलब्ध कराए जाते हैं। एलसीओ एमएसओ से सक्रियण शुल्क के भुगतान पर अपने नाम से एसटीबी खरीदते हैं और अंत उपयोगकर्ता या ग्राहकों को उसकी आपूर्ति करते हैं।

एलसीओ द्वारा अंत उपयोगकर्ताओं से एकत्रित सक्रियण राजस्व पर 18 प्रतिशत जीएसटी का भुगतान किया जाएगा।

उसी प्रकार एमएसओ भी एलसीओ से एसटीबी सक्रियण शुल्क पर 18 प्रतिशत जीएसटी वसूलेगा।

एलसीओ सक्रियण शुल्क पर भुगतान किए गए जीएसटी का क्रेडिट ले लेगा।

नोट: एसटीबी का स्वामित्व हमेशा एमएसओ के पास होगा क्योंकि सेट टॉप बॉक्स एलसीओ को नहीं बेचा जाता है। एलसीओ ग्राहक को एसटीबी को नहीं बेच सकते हैं। वे उन्हें केवल सक्रियण पर ही एसटीबी प्रदान कर सकते हैं।

अधिष्ठापन/ पुनःअधिष्ठापन सेवा शुल्क

ग्राहकों से वसूल किया जाने वाले अधिष्ठापन/ पुनःअधिष्ठापन शुल्क 18 फीसदी जीएसटी के अधीन है।

एकत्रित की जाने वाली एसटीबी मरम्मत शुल्क

ग्राहकों से प्राप्त एसटीबी मरम्मत शुल्क 18 फीसदी जीएसटी के अधीन हैं।

भुगतान किया गया एसटीबी मरम्मत शुल्क

यदि एसटीबी मरम्मत शुल्क पंजीकृत विक्रेता/ व्यक्ति को दिए जाते हैं, तो एलसीओ विक्रेता द्वारा जारी इनवॉएस पर इनपुट टैक्स क्रेडिट का दावा करेगा।

यदि एसटीबी मरम्मत शुल्क गैर-पंजीकृत विक्रेता/ व्यक्ति को दिए जाते हैं, तो एलसीओ रिवर्स चार्ज मैकानिज़म के तहत जीएसटी का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी होगा।

एलसीओ को रिवर्स चार्ज के तहत जीएसटी का भुगतान करना होगा और यह इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) के रूप में उपलब्ध होगा।

ब्रॉडबैंड सेवाओं की आपूर्ति – व्यापार के सामान्य कोर्स के दौरान, एलसीओ भी इंटरनेट सेवा प्रदाता (आईएसपी) कंपनी के लिए अधिकृत ब्रॉडबैंड एजेंटों के रूप में कार्य करता है।

आईएसपी एक मौजूदा एमएसओ हो सकता है, जिसके लिए एलसीओ पहले से ही काम कर रहा है या कोई अलग आईएसपी कंपनी हो सकती है। एलसीओ आईएसपी कंपनी के लिए बने ब्रॉडबैंड सेवाओं के प्रावधान के आधार पर एकत्रित करता है और एकत्रित की गई राशि को रेमिट करता है।

कभी-कभी वे रेमिट की जाने वाली राशि से अपने कमीशन को घटा देते हैं या आईएसपी कंपनी एलसीओ के खाते में कमीशन चेक जारी करते हैं।

उदाहरण दिल्ली में एलसीओ (ब्रॉडबैंड एजेंट) एक ब्रॉडबैंड पैकेज बेचता है

वह ब्रॉडबैंड सेवा प्रदाता की तरफ से खरीददार(ग्राहक) से पैकेज के लिए जीएसटी सहित कुल खरीद मूल्य वसूलता है।

एजेंट इस राशि से कमीशन और एजेंट कमीशन पर जीएसटी को घटाने के बाद इस राशि को कंपनी को दे देता है।

एजेंट कमीशन पैकेज के बिक्री मूल्य का 40 प्रतिशत होता है, जिसमें जीएसटी शामिल नहीं है। यहाँ एजेंट द्वारा जारी इनवॉएस का एक नमूना दिया जा रहा है, अगर वह ब्रॉडबैंड सेवा प्रदाता की ओर से इनवॉएस जारी कर रहा है।


ब्रॉडबैंड पैकेज Rs. 1000

जीएसटी (Rs. 1,000 × 18%) Rs 180

ग्राहक द्वारा भुगतान की गई राशि Rs. 1,180

कमीशन: Rs. 1,000 × 40% = Rs. 400

जीएसटी: Rs. 400.00 × 18% = Rs. 72

कुल: Rs. 472.00 Rs. 472

कंपनी की शुद्ध आय: Rs. 708

इसके जीएसटी रिटर्न के तहत, एजेंट ब्रॉडबैंड कंपनी से वसूले गए अपने कमीशन पर  Rs.72.00 जीएसटी को रिपोर्ट करेगा। ब्रॉडबैंड कंपनी ग्राहक द्वारा भुगतान किए गए ब्रॉडबैंड पैकेज ` 180.00 जीएसटी का रिपोर्ट करेगी।

ब्रॉडबैंड कंपनी ने एजेंट के कमीशन पर भुगतान किए गए जीएसटी के लिए एक आईटीसी के रूप में  Rs. 72.00 का दावा कर सकती है। इस मामले में स्थानीय केबल ऑपरेटरों के लिए जीएसटीएन के साथ पंजीकृत होना जरूरी है, क्योंकि वह अन्य कर योग्य व्यक्ति यानी ब्रॉडबैंड कंपनी के एजेंट के रूप में काम कर रहा है।

ग्राहक को इनवॉएस जारी करने से पहले, एजेंट/कंपनी को ग्राहक की स्थिति का पता लगाना चाहिए, यानि क्या वह पंजीकृत कर योग्य व्यक्ति या गैर-पंजीकृत कर योग्य व्यक्ति है।

अगर ब्रॉडबैंड पैकेज पंजीकृत कर योग्य व्यक्ति को बेचा जाता है, तो एजेंट/कंपनी को ग्राहक के लिए कर योग्य इनवॉएस जारी करना पड़ेगा ताकि ब्रॉडबैंड का खरीदार इनपुट टैक्स क्रेडिट का दावा कर सके।

यदि ब्रॉडबैंड पैकेज किसी गैर पंजीकृत व्यक्ति को बेचा जाता है, तो एजेंट/कंपनी को ग्राहक के लिए कर योग्य इनवॉएस जारी करना होगा। गैर-पंजीकृत व्यक्ति द्वारा इनपुट टैक्स क्रेडिट का दावा नहीं किया जा सकता है।​

क्या एलसीओ को जीएसटी के तहत पंजीकरण करना होगा ?

हाँ, एलसीओ को जीएसटी के लिए पंजीकरण करना होगा, भले ही उनका कुल कर योग्य राजस्व Rs. 20,00,000 सीमा से कम हो। एलसीओ ग्राहकों को केबल टीवी पैकेज बेच रहे हैं,जो केवल एसटीबी की मदद से ही देखा जा सकता है और एसटीबी एमएसओ द्वारा नियंत्रित और प्रदान किया जाता है। एसटीबी का स्वामित्व भी एमएसओ के पास ही होता है।

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 24, खंड (vii) के आधार पर हर एलसीओ को जीएसटी के तहत पंजीकरण करना होगा। यहाँ तक​​ कि अगर एलसीओ केवल एक ही केबल टीवी कनेक्शन का प्रबंधन कर रहा है, तब भी उसे जीएसटी के तहत पंजीकृत होना होगा।

क्या ब्रॉडबैंड सेवा प्रदाता के एजेंट को जीएसटी के तहत पंजीकृत होना है?

हाँ, ब्रॉडबैंड सेवा प्रदाता के एजेंट के रूप में कार्य करने वाले किसी भी व्यक्ति को जीएसटी के तहत पंजीकृत होना जरूरी है। इस मामले में Rs. 20,00,000 की थ्रेस्होल्ड सीमा लागू नहीं है।

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 24 खंड (vii)के आधार पर, प्रत्येक व्यक्ति जो अन्य कर योग्य व्यक्तियों की ओर से सेवाओं का कर योग्य आपूर्ति करता है, चाहे एजेंट के रूप में हो या अन्य किसी रूप में, को जीएसटी के तहत पंजीकृत होना आवश्यक है। यहाँ तक​​ कि अगर एजेंट केवल एक ही ब्रॉडबैंड कनेक्शन का प्रबंधन कर रहा है तो भी उसे जीएसटी के तहत पंजीकृत होना ज़रूरी है।

केबल टीवी उद्योग से जुड़े सामान्य प्रश्न

1. कौन-कौन से करों को जीएसटी में मर्ज किया जाएगा?

जीएसटी के अंतर्गत, निम्नलिखित करों, जो वर्तमान में एलसीओ द्वारा भुगतान किए जा रहे हैं, को मर्ज कर दिया जाएगा: सेवा कर; मनोरंजन कर; वैट।

2. वर्तमान में मेरे केबल टीवी व्यवसाय को जीएसटी के तहत पंजीकृत होना आवश्यक नहीं है क्योंकि मेरा कुल कर योग्य कारोबार Rs. 20,00,000 से कम है। क्या मुझे जीएसटी के तहत पंजीकरण के लिए आवेदन करना होगा?

जीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 24 के खंड VII के आधार पर आपको अनिवार्य रूप से जीएसटी के तहत पंजीकृत होना है।

3. जीएसटी के तहत केबल टीवी सेवा का मूल्य क्या है?

केबल टीवी सेवा के मूल्य से आशय है केबल टीवी सेवाओं की प्राप्ति के लिए ग्राहक द्वारा दी गई कुल राशि।

4. यदि कोई केबल ऑपरेटर ग्राहकों से अग्रिम भुगतान भुगतान करने के लिए अनुरोध करता है, तो क्या मुझे अग्रिम संग्रह पर जीएसटी का भुगतान करने की आवश्यकता है?

हाँ, आपको अग्रिम संग्रह पर जीएसटी का भुगतान करना होगा।

5. मैं एक एलसीओ हूँ और ब्रॉडबैंड के लिए अधिष्ठापन कार्य भी करता हूं। मेरा कर योग्य कारोबार क्या है?

जीएसटी के अंतर्गत आपके कर योग्य कारोबार में सदस्यता आय और ब्रॉडबैंड के लिए अधिष्ठापन कार्य से होने वाली आय शामिल होगी।

6. क्या ग्राहकों से वसूल किया जाने वाला एसटीबी मरम्मत शुल्क जीएसटी के अधीन है?

हाँ, ग्राहकों से एकत्रित एसटीबी मरम्मत शुल्क जीएसटी के अधीन है।

7. क्या एलसीओ एसटीबी मरम्मत शुल्क पर भुगतान किए गए जीएसटी के इनपुट टैक्स क्रेडिट का दावा कर सकता है?

हाँ, जीएसटी के तहत पंजीकृत विक्रेताओं को भुगतान किए गए एसटीबी मरम्मत शुल्क पर इनपुट टैक्स क्रेडिट का दावा किया जा सकता है।

अगर एसटीबी मरम्मत करने वाला विक्रेता जीएसटी के तहत पंजीकृत नहीं है, तो एलसीओ को रिवर्स चार्ज के तहत सरकार को जीएसटी भुगतान करने की आवश्यकता है।

8. एक एलसीओ ग्राहक के घर में एसटीबी के इंस्टॉलेशन के लिए ग्राहक से सुरक्षा जमा संग्रहित करता है। क्या वह सुरक्षा जमा के रूप में एकत्रित की गई राशि पर जीएसटी का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी होगा?

नहीं, ग्राहकों से ली जाने वाली सुरक्षा जमा को केबल टीवी सेवाओं की आपूर्ति नहीं माना जा सकता है। ग्राहकों से सुरक्षा जमा के संग्रह पर जीएसटी देय नहीं है। सीजीएसटी अधिनियम 2017 की धारा 2 उप-धारा (31) के प्रावधान के अनुसार, प्राप्त की गई जमा को सेवाओं की आपूर्ति के लिए किए गए भुगतान के रूप में नहीं माना जाएगा जब तक कि आपूर्तिकर्ता उक्त आपूर्ति के लिए इस तरह के जमा को कंसीडरेशन के रूप में लागू नहीं करते हैं।

9. एक एलसीओ सुरक्षा जमा को जब्त कर लेता है, जसे एसटीबी की स्थापना के लिए ग्राहक से पहले एकत्रित किया गया था। क्या वह सुरक्षा जमा के रूप में जब्त की गई राशि पर जीएसटी का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी होगा?

आम तौर पर, जमा के जब्त करने को किसी भी आपूर्ति के लिए नहीं माना जाता है क्योंकि इसमें अनुबंध के गैर-निष्पादन या अनुबंध के उल्लंघन के कारण नुकसान के लिए क्षतिपूर्ति भुगतान शामिल होता है।

ब्रॉडबैंड

10. ब्रॉडबैंड वितरक/ एजेंट के रूप में, क्या मेरा कारोबार मेरे कुल संग्रह पर आधारित है या मेरे कमीशन पर आधारित है?

वार्षिक कारोबार उन सभी कर योग्य आपूर्तियों के मूल्य पर आधारित होता है, जिसे एक ब्रॉडबैंड वितरक/ एजेंट ने अपने व्यवसाय के संबंध में किया है। एक ब्रॉडबैंड एजेंट के रूप में, वह केवल कमीशन पर ही पैकेज बेच रहा है। उनका कर योग्य कारोबार प्रतिवर्ष प्राप्त कमीशन के मूल्य पर आधारित होगा।

11. ब्रॉडबैंड एजेंट के रूप में, मैं अक्सर अपने प्रिंसिपल से आपूर्ति करता हूँ। ऐसीआपूर्ति पर जीएसटी भुगतान के लिए कौन जिम्मेदार है?

आपकी प्रिंसिपल ब्रॉडबैंड प्रदान करने वाली कंपनी ग्राहक से वसूली गई पैकेज राशि पर जीएसटी के लिए जिम्मेदार है। ब्रॉडबैंड एजेंट को ब्रॉडबैंड पैकेज की बिक्री पर अर्जित कमीशन पर जीएसटी का भुगतान करना होगा।

एलसीओ द्वारा सेवाओं का टाईम ऑफ सप्लाई

12. मैं एक एलसीओ हूँ।मेरे द्वारा प्रदान की जाने वाली केबल टीवी और अन्य संबंधित सेवाओं पर कर भुगतान करने हेतु मेरा टाईम ऑफ सप्लाई कब है?

आपका टाईम ऑफ सप्लाई निम्न के अनुसार जल्द से जल्द है –

(क) आप अपनी सेवा पूरी करते हैं

(ख) आप ग्राहकों को एक इनवॉएस जारी करते हैं, या

(ग) आपको अपनी सेवाओं के लिए भुगतान प्राप्त हुआ है

(घ) उस तिथि जिसमें प्राप्तकर्ता खातों विवरणों में सेवाओं की प्राप्ति को दर्शाता है।

हालांकि, यदि (क) के बाद 30 दिनों के भीतर एक इनवॉएस जारी किया गया है, तो आपका टाईम ऑफ सप्लाई आपके इनवॉएस जारी करने की तारीख है।

टैक्स इनवॉएस

13. एक एलसीओ के रूप में, क्या मुझे अपने सभी ग्राहकों को टैक्स इनवॉएस जारी करना आवश्यकहै?

हाँ, आपको ऐसा करने की आवश्यकता है, यदि आप एक पंजीकृत व्यक्ति हैं और किसी अन्य पंजीकृत व्यक्ति को आपूर्ति कर रहे हैं।

14. क्या इनवॉएसों की स्कैन की गई प्रति को जीएसटी -1 के साथ अपलोड किया जाना है?

इनवॉएसों की किसी भी स्कैन प्रति को अपलोड नहीं किया जाना है। इनवॉइस से केवल कुछ निश्चित जानकारियाँ अपलोड की जानी चाहिए।

रिटर्न

15. एलसीओ द्वारा जीएसटी के तहत कौन से मुख्य रिटर्न फाईल किए जाने हैं और इसके लिए नियत तारीख क्याहै?

करों का भुगतान

16. आपूर्तिकर्ता द्वारा करों का भुगतान कब किया जाना है?

सामान्य कर दाता द्वारा करों का भुगतान मासिक आधार पर किया जाना है।

17. क्या कोई रिवर्स चार्ज के तहत करों के भुगतान के लिए इनपुट टैक्स क्रेडिट का इस्तेमाल कर सकता है?

नहीं, रिवर्स चार्ज के तहत कर के भुगतान के लिए इनपुट टैक्स क्रेडिट का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।

18. क्या रिवर्स चार्ज पर भुगतान किए गए जीएसटी को इनपुट भुगतान के रूप में माना जा सकता है?

हाँ,    रिवर्स चार्ज के तहत भुगतान किए गए जीएसटी को इनपुट टैक्स के रूप में माना जा सकता है।

19. क्या इनपुट टैक्स में इनपुट सेवाओं/ मालों/ पूँजीगत सामानों पर भुगतान किए गए सीजीएसटी/ एसजीएसटी/आईजीएसटी शामिल हैं?

हाँ, विविध

20. जीएसटी के अनुरूप होने के लिए एलसीओ को कौन-कौन सी प्रक्रियाएँ और गतिविधियाँ करनी होगी?

जीएसटी अनुपालन परिप्रेक्ष्य से, निम्नलिखित प्रमुख गतिविधियों और प्रक्रियाओं को जीएसटी के अनुरूप बनाने की आवश्यकता होगी:

क) मौजूदा सेवा कर पंजीकरण का जीएसटी में माईग्रेशन ;

ख) इनवॉएस प्रारूपों को जीएसटी कानून की आवश्यकताओं के अनुरूप बनाना;

ग) बिक्री रजिस्टर/ बाहरी आपूर्ति और आंतरिक आपूर्ति, जीएसटी का भुगतान, जीएसटी रिटर्न भरने, आदि के विवरण अपलोड करने के जीएसटी मासिक अनुपालन के लिए अनिवार्य फील्डों को कैप्चर करने के लिए सिस्टम में बिक्री और खरीद रजिस्टर प्रारूप।

घ) जीएसटीएन द्वारा परिकलित की गई इनपुट टैक्स क्रेडिट ( विक्रेताओं द्वारा अपलोड किए गए आउटवार्ड सप्लाई रजिस्टर के आधार पर) बुक्स के अनुसार इनपुट टैक्स क्रेडिट का मिलान करना;

ङ) मासिक आधार पर जीएसटी देयता का परिकलन और जीएसटी का भुगतान;

च) संबंधित केन्द्रीय/ राज्य सरकारों को सीजीएसटी, एसजीएसटी और आईजीएसटी का समय पर भुगतान;

छ) मासिक जीएसटी रिटर्न दाखिल करना

उपर्युक्त अनुपालन व्यापक स्तर पर होने हैं। जीएसटी कानून के तहत
यथा निर्धारित जीएसटी के अनुरूप होने के लिए अतिरिक्त अनुपालन/ प्रक्रिया/ गतिविधियाँ आरंभ की जानी हैं।

21. गैर पंजीकृत/ समग्र व्यापारियों से खरीद के निहितार्थ क्या हैं?

यदि खरीद समग्र व्यापारी से की जाती है, तो इनपुट टैक्स क्रेडिट प्राप्तकर्ता को उपलब्ध नहीं होगा क्योंकि समग्र व्यापारी अपने द्वारा की गई आपूर्ति पर जीएसटी वसूलने के लिए टैक्स इनवॉएस जारी नहीं कर सकता है। गैर पंजीकृत व्यापारी से खरीद के मामले में, एलसीओ पर रिवर्स चार्ज के तहत जीएसटी लागू होगा।

22. क्या मुफ्त केबल टीवी सेवाओं के वितरण पर जीएसटी लागू होगा?

किसी को भी मुफ्त में मुहैया कराई गई केबल टीवी सेवाओं पर जीएसटी नहीं लागू की जानी चाहिए। हालांकि, एलसीओ को मुफ्त केबल टीवी सेवाओं की आपूर्ति कराने के लिए (यदि कोई हो) प्राप्त संबंधित इनपुट टैक्स क्रेडिट को रिवर्स करने की आवश्यकता होगी।

संबंधित पोस्ट