स्मार्ट टीवी और वॉयस असिस्टेंट डिवाइस से प्राइवेसी को खतरा

स्मार्ट टीवी और वॉयस असिस्टेंट डिवाइस से प्राइवेसी को खतरा

स्मार्ट होम डिवाइस के खतरों को लेकर वॉशिंगटन में एक कॉन्फ्रेंस हुई, जहां ये बात सामने आई स्मार्ट डिवाइसेस लोगों की बातचीत रिकॉर्ड कर सकती है और उनकी लोकेशन ट्रैक कर सकती है एक्सपर्ट का मानना है कि इस डेटा को थर्ड पार्टी के साथ भी साझा किया जा सकता है

गैजेट डेस्क. अगर आप अपने पार्टनर को धोखा दे रहे हैं या आपका पार्टनर आपको धोखा दे रहा है, तो इस बात की जानकारी अमेजन अलेक्सा जैसी वॉइस असिस्टेंट डिवाइस या स्मार्ट टीवी जैसे होम प्रोडक्ट दे सकते हैं। वॉशिंगटन में स्मार्ट होम डिवाइसेस के खतरों पर एक कॉन्फ्रेंस हुई थी, जिसमें ये बात निकलकर सामने आई है। इस कॉन्फ्रेंस में प्राइवेसी एक्सपर्ट ने माना कि, स्मार्ट होम गैजेट के पास इतना डेटा होता है, जिससे लोगों के रिश्तों के बारे में पता लगाया जा सकता है। एक्सपर्ट का मानना है कि, स्मार्ट होम गैजेट के पास दो लोगों की बातचीत को ट्रैक करने की क्षमता है।

आपके घर में कोई आया है, इस बारे में भी बता सकते हैं

ब्रिटिश वेबसाइट द मिरर के मुताबिक, ड्यूक यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर अश्विन मैकहैनवझाला ने कॉन्फ्रेंस में बताया, “स्मार्ट मीटर आपको बता सकते हैं कि आपके घर पर कोई है और किस एप्लायंसेस का उपयोग कर रहा है।”

उन्होंने बताया, “अगर आप लिविंग रूम में बैठकर किसी के साथ बात कर रहे हैं, तो स्मार्ट टीवी और वॉयस असिस्टेंट दोनों की बातचीत को रिकॉर्ड कर सकते हैं, जिनमें से कुछ को थर्ड पार्टी के साथ साझा भी किया जा सकता है।”

‘हमें नहीं पता हमारे डेटा के साथ क्या हो रहा है?’

प्रोफेसर मैकहैनवझाला ने बताया कि प्राइवेसी को खतरा होने की वजह से वे अपने घर पर स्मार्ट डिवाइसेस का इस्तेमाल नहीं करते हैं। उन्होंने कहा, “हमें ये जानना जरूरी है कि हमारे बारे में क्या-क्या जानकारियां इकट्ठी की जा रही हैं और हमारे पास अब कुछ छिपाने के लिए है भी या नहीं?”

उन्होंने कहा कि, सबसे बड़ी समस्या तो यही है कि हमें नहीं पता कि हमारे डेटा के साथ क्या हो रहा है? उन्होंने बताया कि, “स्मार्ट डिवाइसेस डेटा को क्लाउड में भेज देती हैं ताकि डेटा को एल्गोरिदम के जरिए एनालाइज किया जा सके।”

उन्होंने कहा कि, “एक बार जब डेटा को क्लाउड में भेज दिया जाता है, तो यूजर उस डेटा पर अपना कंट्रोल खो देते हैं।”

वॉयस रिकॉर्डिंग को डिलीट कर सकते हैं: अमेजन

वहीं, अमेजन के प्रवक्ता ने द सन को बताया कि यूजर चाहें तो वॉयस रिकॉर्डिंग को डिलीट कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि, “अमेजन इको डिवाइस यूजर की वॉयस तभी कैप्चर करता है, जब यूजर ‘वेक’ शब्द बोलते हैं। वेक शब्द बोलने पर ही ऑडियो स्ट्रीम होता है जबकि यूजर की रिक्वेस्ट के बाद स्ट्रीम होना बंद हो जाता है।”

संबंधित पोस्ट